Adhoori Jeet (अधूरी जीत)

Bharat ka Apratiyashit Loktantra (भारत का अप्रत्याशित लोकतंत्र)

Price: 495.00 INR

We sell our titles through other companies
Disclaimer :You will be redirected to a third party website.The sole responsibility of supplies, condition of the product, availability of stock, date of delivery, mode of payment will be as promised by the said third party only. Prices and specifications may vary from the OUP India site.

ISBN:

9780199480333

Publication date:

22/06/2018

Paperback

432 pages

Price: 495.00 INR

We sell our titles through other companies
Disclaimer :You will be redirected to a third party website.The sole responsibility of supplies, condition of the product, availability of stock, date of delivery, mode of payment will be as promised by the said third party only. Prices and specifications may vary from the OUP India site.

ISBN:

9780199480333

Publication date:

22/06/2018

Paperback

432 pages

Ashutosh Varshney (आशुतोष वार्ष्णेय)

This lively collection of essays by Ashutosh Varshney analyses the deepening of Indian democracy since 1947 and the challenges this has created. It examines concerns ranging from federalism and Hindu nationalism to caste conflict and civil society, the north-south economic divide and politics of economic reforms. This is the Hindi translation of the English edition.

Rights:  World Rights

Ashutosh Varshney (आशुतोष वार्ष्णेय)

Description

आशुतोष वार्ष्णेय की यह क़िताब भारतीय लोकतंत्र को समझने और समझाने की कोशिश है. तथ्यों और सबूतों के जरिए भारत के लोकतांत्रिक होने की उस प्रक्रिया को देखना है जो 1947 के बाद शुरू हुई थी. भारत के उन्मादी होते जाने और लोकतांत्रिक होते जाने के अंतर्विरोधों का विश्लेषण है. गैर-सवर्ण जातियों के राजनैतिक उभार और आर्थिक मजबूती के संबंधों की व्याख्या के साथ यह उत्तर भारत और दक्षिण भारत के उद्यमों में जातियों की भागीदारी का भी तुलनात्मक अध्ययन पेश करती है. यह क़िताब भारतीय लोकतंत्र के उस पक्ष को सामने लाती है जिसकी अधूरी जीत हुई है, जिसका आधा जीता जाना अभी बचा हुआ है.
English Translation
This lively collection of essays by Ashutosh Varshney analyses the deepening of Indian democracy since 1947 and the challenges this has created. It examines concerns ranging from federalism and Hindu nationalism to caste conflict and civil society, the north-south economic divide, and politics of economic reforms. Accompanied by a substantial overview tracing the forging and consolidation of India's improbable democracy, this book is full of original insights portraying the successes and failures of our experience in a new comparative perspective, enriching our understanding of the idea of democracy. This is the Hindi translation of the English edition.

About the Author
आशुतोष वार्ष्णेय
ब्राउन यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं और सेंटर फ़ार कंटेमप्रेरी साउथ एशिया के निदेशक हैं. वे हावर्ड और यूनिवर्सिटी ऑफ़ मकिंघम में भी अध्यापन कर चुके हैं. वे अंग्रेजी के प्रमुख अख़बारों में सामाजिक-राजनैतिक विषयों पर लेखन भी करते हैं.
English Translation
Ashutosh Varshney is Sol Goldman Professor of International Studies and the Social Sciences, Brown University, where he also directs the India Initiative. Previously, he taught at Harvard and the University of Michigan, Ann Arbor. His books include Ethnic Conflict and Civic Life: Hindus and Muslims in India, Democracy, Development and the Countryside: Urban-Rural Struggles in India, and India in the Era of Economic Reforms. His honours include the Guggenheim and Carnegie awards and the Gregory Luebbert Prize. He is a contributing editor for the Indian Express and his guest columns have appeared in many newspapers, including the Financial Times.

Ashutosh Varshney (आशुतोष वार्ष्णेय)

Table of contents


Sarni aur Rekhachitra
Prastavna

I. Loktantra
1. Ek Apratiyashit Loktantra ki Mahayatra
2. Kyun Bacha Rehta hai Loktantra?
3. Kya Bharat Zyada Jantantrik Hota Ja Raha Hai?

II. Dharm, Bhasha, aur Jaati
4. Artha Bahulta: 1980 aur 1990 ke Dashak mein Bharat ki Rashtriya Asmita, Hindu Rashtravad, aur Uttejana ki Rajniti
5. Jatiya Sangharsh aur Nagarik Samaj: Bharat aur Uske Paar
6. Kitna Prabhavi Raha Bharat mein Sanghbad?
7. Ek Hi Nadi ke Do Chor: Samajik Vyavasthayein aur Vyavsayvaad
8. Bharat mein Jaati tatha Udhamita

III. Arthik Vikas
9. Akhir Kyun Nirdhan Loktantrik Desh Garibi Unmulan Nahi Kar Paya Hai?
10. Bharat mein Loktantra aur Bazaar

Lekhon ke Baare mein Tippani
Tippaniyan
Sandarbh
Anukramanika
Lekhak avum Anuvadak Parichay

Ashutosh Varshney (आशुतोष वार्ष्णेय)

Ashutosh Varshney (आशुतोष वार्ष्णेय)

Review

आशुतोष वार्ष्णेय ब्राउन यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं और सेंटर फ़ार कंटेमप्रेरी साउथ एशिया के निदेशक हैं.
आशुतोष वार्ष्णेय अपने गहन शोध के जरिए भारत के लोकतंत्र की पड़ताल करते हैं. वे बताते हैं की आज़ादी के छः दशक से ज़्यादा बीत जाने के बाद भी भारतीय लोकतंत्र एक पहेली सा बना हुआ है. अपने लेखन और विश्लेषण के जरिए वे हमें भारतीय लोकतंत्र के विभिन्न आयामों पर सोचने के लिए बाध्य करते हैं.
-कौशिक बसु, सीनियर वायस प्रेसीडेंट व विश्व बैंक के प्रधान अर्थशास्त्री
आशुतोष वार्ष्णेय भारतीय राजनीति के एक विश्व स्तरीय विद्वान हैं. उनका लेखन विद्वतापूर्ण है और विश्लेषण पैना. भारतीय लोकतंत्र को समझने में उनके ये लेख बेहद महत्वपूर्ण हैं.
-अतुल कोहली, प्रिंसटन विश्वविद्यालय के अंतरराष्ट्रीय अध्ययन में राजनीति शास्त्र के प्रोफ़ेसर.

Ashutosh Varshney (आशुतोष वार्ष्णेय)

Description

आशुतोष वार्ष्णेय की यह क़िताब भारतीय लोकतंत्र को समझने और समझाने की कोशिश है. तथ्यों और सबूतों के जरिए भारत के लोकतांत्रिक होने की उस प्रक्रिया को देखना है जो 1947 के बाद शुरू हुई थी. भारत के उन्मादी होते जाने और लोकतांत्रिक होते जाने के अंतर्विरोधों का विश्लेषण है. गैर-सवर्ण जातियों के राजनैतिक उभार और आर्थिक मजबूती के संबंधों की व्याख्या के साथ यह उत्तर भारत और दक्षिण भारत के उद्यमों में जातियों की भागीदारी का भी तुलनात्मक अध्ययन पेश करती है. यह क़िताब भारतीय लोकतंत्र के उस पक्ष को सामने लाती है जिसकी अधूरी जीत हुई है, जिसका आधा जीता जाना अभी बचा हुआ है.
English Translation
This lively collection of essays by Ashutosh Varshney analyses the deepening of Indian democracy since 1947 and the challenges this has created. It examines concerns ranging from federalism and Hindu nationalism to caste conflict and civil society, the north-south economic divide, and politics of economic reforms. Accompanied by a substantial overview tracing the forging and consolidation of India's improbable democracy, this book is full of original insights portraying the successes and failures of our experience in a new comparative perspective, enriching our understanding of the idea of democracy. This is the Hindi translation of the English edition.

About the Author
आशुतोष वार्ष्णेय
ब्राउन यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं और सेंटर फ़ार कंटेमप्रेरी साउथ एशिया के निदेशक हैं. वे हावर्ड और यूनिवर्सिटी ऑफ़ मकिंघम में भी अध्यापन कर चुके हैं. वे अंग्रेजी के प्रमुख अख़बारों में सामाजिक-राजनैतिक विषयों पर लेखन भी करते हैं.
English Translation
Ashutosh Varshney is Sol Goldman Professor of International Studies and the Social Sciences, Brown University, where he also directs the India Initiative. Previously, he taught at Harvard and the University of Michigan, Ann Arbor. His books include Ethnic Conflict and Civic Life: Hindus and Muslims in India, Democracy, Development and the Countryside: Urban-Rural Struggles in India, and India in the Era of Economic Reforms. His honours include the Guggenheim and Carnegie awards and the Gregory Luebbert Prize. He is a contributing editor for the Indian Express and his guest columns have appeared in many newspapers, including the Financial Times.

Read More

Reviews

आशुतोष वार्ष्णेय ब्राउन यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं और सेंटर फ़ार कंटेमप्रेरी साउथ एशिया के निदेशक हैं.
आशुतोष वार्ष्णेय अपने गहन शोध के जरिए भारत के लोकतंत्र की पड़ताल करते हैं. वे बताते हैं की आज़ादी के छः दशक से ज़्यादा बीत जाने के बाद भी भारतीय लोकतंत्र एक पहेली सा बना हुआ है. अपने लेखन और विश्लेषण के जरिए वे हमें भारतीय लोकतंत्र के विभिन्न आयामों पर सोचने के लिए बाध्य करते हैं.
-कौशिक बसु, सीनियर वायस प्रेसीडेंट व विश्व बैंक के प्रधान अर्थशास्त्री
आशुतोष वार्ष्णेय भारतीय राजनीति के एक विश्व स्तरीय विद्वान हैं. उनका लेखन विद्वतापूर्ण है और विश्लेषण पैना. भारतीय लोकतंत्र को समझने में उनके ये लेख बेहद महत्वपूर्ण हैं.
-अतुल कोहली, प्रिंसटन विश्वविद्यालय के अंतरराष्ट्रीय अध्ययन में राजनीति शास्त्र के प्रोफ़ेसर.

Read More

Table of contents


Sarni aur Rekhachitra
Prastavna

I. Loktantra
1. Ek Apratiyashit Loktantra ki Mahayatra
2. Kyun Bacha Rehta hai Loktantra?
3. Kya Bharat Zyada Jantantrik Hota Ja Raha Hai?

II. Dharm, Bhasha, aur Jaati
4. Artha Bahulta: 1980 aur 1990 ke Dashak mein Bharat ki Rashtriya Asmita, Hindu Rashtravad, aur Uttejana ki Rajniti
5. Jatiya Sangharsh aur Nagarik Samaj: Bharat aur Uske Paar
6. Kitna Prabhavi Raha Bharat mein Sanghbad?
7. Ek Hi Nadi ke Do Chor: Samajik Vyavasthayein aur Vyavsayvaad
8. Bharat mein Jaati tatha Udhamita

III. Arthik Vikas
9. Akhir Kyun Nirdhan Loktantrik Desh Garibi Unmulan Nahi Kar Paya Hai?
10. Bharat mein Loktantra aur Bazaar

Lekhon ke Baare mein Tippani
Tippaniyan
Sandarbh
Anukramanika
Lekhak avum Anuvadak Parichay

Read More